3

Off Page SEO Karne Ke 14 Best Tips

Off Page SEO

Off Page SEO Techniques, SEO ka hi part hai jiski madad se hum external source se apni site par traffic la sakte hai. Bahar se hamare site par traffic aane se hamare site ki rank bhi badhti hai or hamara post bhi search me aane lagta hai.

Post likhne ke baad usey search me lane ke liye hum uska SEO karte hain. SEO mainly 2 tarikse kiya jata hai.

1) On-Page SEO
2) Off-Page SEO
Off Page SEO
1) On-Page SEO:- Post likhte samay Title, Permalink, Image, Description, Keywords in sabhi ka apne post me sahi tarike se prayog karte hai jisse hamara post search me aa sake.

2) Off-Page SEO:- Jab hum Post publish kar dete hai tab usko search me lane or bahar se apne site par traffic lane ke liye jo kaam karte hai, usey Off-Page SEO kahte hain.

SEO ki suruaat On-Page SEO se hoti hai or jab hum post publish kar dete hain tab Off-Page SEO par kaam kiya jata hai.

Pichle post me humne On-Page SEO Kaise Kare is bare me bataya tha, Agar aapne vo post nahi padha hai to sabse pahle usey padhiye, uske baad Off-Page SEO padhiyega.

Aaiye Jante hai ki:-

 

Off-Page SEO Kaise Kare

 

1) Social Sites Ke dwara

Dosto, Aaj ke samay me Social Sites ka importance kisi se chhupa nahi hai. Puri duniya me roj karodo log alag-alag Social Sites use karte hai or ye sankhya lagatar badhti ja rahi hai.

Aise me apne sites ko kam samay me Jyada se jayda logo tak pahuchane ka Sabse sasta or sabse badhiya Option hai:- Social Networking Sites.

Off Page SEO Social Sites

Iske liye sabse pahle aapko kisi bhi Social Sites jaise Facebook, Google+, Twitter, Whatsapp in sab par apna Account banane ke baad apne Site ka Page Ya Group bana lein or fir daily apne site ka link in Groups ya Page me post karein.

Lekin ye sab ek proper planning kar ke hona chahiye. Maan lijiye aapne Facebook par 50 group join kar rakha hai or aap ek hi din me apne group ke alawa in sabhi group me bhi links post karenge to Facebook aapko Spammer ki category me daal dega or ho sakta hai aapka account close bhi kar de.

Isliye Jo bhi Group join kariye vo aapke Site ke Topic se related ho or daily 4-5 link se jyada post mat kariye.



 

2) Backlinks Banana

Social Site par link post karna bhi backlinks ki category me hi aata hai. Iske alawa aap kisi dusre site/blog par jakar waha achcha sa comment kar ke bhi apna backlinks bana sakte hain.

Backlinks kaise banaye ye janne ke liye hamara ye post jarur padhein.

 

3) Forum Join karna

Aaj Internet par alag-alag topic par bahut sare forum bane hue hai. Aapko bas itna karna hai ki Apne topic se related Forum join kariye or waha discussion me active hokar participate kariye.

Logo ke sawalo ka jawab dijiye, isse logo ko aapke bare me janne ki ichcha hogi to vo khud hi aapke site par khiche chale aayenge or aapka site unhe pasand aa gaya to aapke permanent visitors bhi ban jayenge.

4) Search Engine Submission

Aap soch rahe honge ki maine galti se Search Engine Optiomization ko Search Engine Submission to nahi likh diya?

Agar aisa hai to aap galat soch rahe hain. Search Engine Submission, Off-Page SEO (Search Engine Optimization) ka ek bahut hi jaruri ya kah lijiye bahut hi important part hai.

Isme hum apne blog/site ko Puplar Search Engine jaise Google, Bing, Yahoo, MSN etc me submit karte hai. Aisa karne se hamare site par maujud sare post in Search Engine ke database me add ho jata hai jo baad me search me show hone lagta hai.

Agar aapne Google Webmaster me abhi tak apna Site add or Submit nahi kiya hai to hamara ye post padhein or usme di gai jankari ko follow karein.

a) Google Search Console me Blog kaise Add Kare.

b) Search Console me Blog ka Sitemap kaise Submit kare.

5) Social Bookmarking Site ka Use

Isse pahle ki aap fir se confuse ho jaye, mai yaha ye batana chahunga ki Social Networking Site alag hai or Social Bookmarking Site alag hai.

Aadhe se jyada logo ko sayad ye bhi pata bhi nahi hoga ki Social Bookmarking Sites kya hai.

Apni Site/Blog ko Internet par promote karne ke liye Social Bookmarking site sabse badhiya option hai Kyuki Search Enginne bhi is tarah ke sites ko jyada importance deta hai.


Iske liye sabse pahle aapko in Social Bookmarking Sites par apne ko Register karna padega jo ki jyadatar free hi hote hain. Uske baad aap apne Blog/Sites ko in sites par submit kar dijiye.

Iske sath hi aise sites par hone wale discussion me bhi jarur participate kariyega, aisa karne se aapke site par visits jarur badhegi.

1) www.reddit.com
2) www.pinterest.com


6) Blog Directory Submission Site ka Use

 

Internet par bahut sari aisi sites hai jo aapko apne blog submit karne ki facility dete hai. Aise sites par blog submit karne se hame bahut hi achcha backlinks bhi milta hai.

Lekin aapko ek baat ka dhyan rakhna chahiye ki Blog Directory Submission bahut hi achchi quality wali sites ho matlab aisi sites ka Google me Page Rank bhi achcha hona chahiye tabhi aapko iska fayda milega.


7) Article Aur Classified Submission Site

 

Jab hum apne Post ko publish kar dete hai tab uske promotion ke liye hume Article or Classified Submission sites par apne post ka link jarur share karna chahiye. Aisa karne se hame bilkul Organic or Natural traffic milta hai jo SEO ke najariye se bahut hi important hai.


Classified Submisstion Site List:-

1) www.olx.in
2) www.sulekha.com
3) www.quikr.com

8) Video Promotion

Apne Blog/Site ke baare me logo ko batane ka ek sabse badhiya or aasan tarika hai Video Promotion.

Aapko sirf itna karna hai ki aap ek Video banaiye or usme apne Blog/Site ke bare me short me bataiye ki aapka blog/site kis topic par hai, uski quality kya hai or us par visit karne se logo ko kya fayda hoga.

Video ban jane ke baad jaruri editing/formatting (jaise video me niche ya upar side me aapke blog ka link hamesa dikhta rahe etc.) kar ke usey famous Video sharing sites YouTube, Daily Motion, Metacafe etc par upload kar dijiye or sath hi in sites se apne video ko Mobile format me download kar lijiye.

Isey Bhi Padhein: Robots.Txt file Kya hai or Iska Use kya hai

Mobile format me download karne ko isliye kah raha hu kyuki in sites se video dowload karne par video ki quality bhi achchi rahegi or size bhi kam ho jayega jabki agar aap kisi software ka use karenge to ho sakta hai quality ya size me fark aa jaye.

Video download karne ke baad aap usey Whatsapp, Hike or facebook par apne Friends or Group me share kar dein. Aisa karne se aapke Blog ka promotion to hoga hi sath me traffic bhi badhega.

 

9) Photo Sharing Sites Ka Prayog

 

Video Promotion ki tarah hi aap Photo Sharing Sites ka prayog apne blog/site ke promotion ke liye kar sakte hain.

Iske liye sabse pahle aapko apne blog me use kiye gaye Unique or attractive image ko lekar uske upar apne blog ka link add kar dena hai or fir usey top photo sharing sites jaise Instagram, Flicker, Photo bucket etc par upload kar dena hai.

Is tarah jab koi aapka photo dekhega to usey aapke blog ka link bhi usme dikhega or issey aapke blog par traffic badhne ke chance bhi badh jayenge.

 

10) Document Sharing Sites Ka Prayog

Article or Classified Submission sites ki tarah hi Document Sharing Sites ka bhi prayog apne blog ki traffic badhane ke liye kiya ja sakta hai.

Iske liye aapko pahle apne blog post ko pdf me convert karna hoga or fir usey popular Document Sharing Site par upload karna hoga.

Kuch Document Sharing Sites ke link niche diye gaye hai.

1) www.scribd.com
2) www.slideshare.net

11) Dusre Sites Se Link Exchange Karna

Aapne jis topic par apna blog banaya hai usi se related dusre blog/sites ke contact karein or aapas me link exchange karein matlab aap unke blog ka link apne blog par lagayein or aapka link vo apne blog par add kare.

Aisa karne se dono bloggers me ek achcha relation bhi banta hai or sath me blog ke liye backlinks bhi create hoti hai jisse traffic bhi badhta hai.

Lekin dhyan rahe jis blog ke sath aap link exchange karenge vo koi galat chiz ko promote na kar raha ho or na hi us par koi galat chiz post honi chahiye, agar aisa kuch hota hai to uska sidha asar aapke blog par bhi padega.

12 Dusre Sites Ka Review Karna

Aap apne Blog topic se related dusre Successfull blogs ka review bhi post kar sakte hain. Aisa karne par bhi aapke blog par visits badhenge.

13) Online Forum Par Reply Dena

Aapne jitne bhi Online Forum Join kar rakha hai un sabhi par daily visit karein or waha puche gaye sawalo ka jawab jarur dein. Aisa karne par us forum ke users aapka blog jarur visit karenge or aapke likhe gaye post pasand aane par aapke Blog ko apne favourite list me bhi daal sakte hain.

1) https://answers.yahoo.com/
2) https://www.quora.com/

14) Guest Post Karna

Ek behatarin or kargar upay hai Guest Posting. Kisi website (jo aapke blog topic se hi related ho) ke liye post likh kar publish karwana hi Guest Posting kahlata hai.

Lekin dhyan rahe vo site us field ki successfull site honi chahiye or vo kisi galat chiz ko promote nahi kar rahi ho.

Ummid karta hu aapko ye Post pasand aaya hoga. Agar koi sujhav ya sawal ho to comment me jarur bataye or apne friends ya relatives ke sath isey share karna na bhule. Thank You.

Isey Bhi Padhein

loading…



1

मोबाईल खरीदने से पहले रखे इन बातों का ध्यान

स्मार्टफोन खरीदते वक्त

दोस्तों, आज हर हाथ में मोबाईल आ चुका है। हर कोई हाथ मे स्मार्टफोन लिये घूम रहा है जिसमे वो जब चाहे इन्टर्नेट के माध्यम से पूरी दुनिया से जुड़ सकता है। बहुत लोग तो स्मार्टफोन के इतने आदी हो चुके हैं कि सोते-जागते, खाते-पीते हुए भी अपने मोबाईल को अपने से दूर नही करते हैं।

एक लाईन मे कहा जाए तो स्मार्टफोन आज सबकी जरूरत बन गया है। स्मार्टफोन हमारी जिन्दगी का महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है तो फिर उसे खरीदते वक्त हम लापरवाही क्यूँ बरतें?

स्मार्टफोन खरीदते वक्त
अक्सर देखा गया है कि लोग स्मार्टफोन खरीदते वक्त अपने दोस्तों और जानकारों से बात कर के उनके द्वारा सुझाए गए स्मार्टफोन खरीद लेते हैं, बिना ये सोचे कि वो फोन उनके लिए सही रहेगा या नही?

दोस्तों, आज मैं आपको इस पोस्ट में स्मार्टफोन के बारे मे कुछ बेसिक बातें बताउँगा जिससे जब आप अगली बार स्मार्टफोन खरीदने जाए तो आपको किसी और पर निर्भर रहने की जरूरत न पड़े और आप अपने पसंद का फोन खरीद सकें।

इस पोस्ट के अंत मे मै एक नॉर्मल स्मार्टफोन का Specification बताउंगा जिससे आपको अंदाजा लग जाएगा कि आपके फोन मे क्या-क्या होना चाहिए।


➤ स्मार्टफोन खरीदते वक्त रखें इन बातों का ध्यान:-


  • ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System, OS)

आजकल जितने भी स्मार्टफोन बाजार मे उपलब्ध है वो किसी न किसी ऑपरेटिंग सिस्टम(OS) के सहारे ही चलते है जैसे Android, iOS, Blackberry OS इत्यादि। लेकिन मार्केट मे सबसे ज्यादा बिकने वाला फोन है Android OS वाला स्मार्टफोन। मै इस पोस्ट मे Android फोन के बारे मे ही बताउंगा।

Android OS वाले फोन को चलाना बहुत ही आसान होता है और उसको सपोर्ट करने वाले Apps आसानी से Google Play Store मे मिल भी जाते हैं।



अगर आप Android फोन लेने जा रहे हैं तो इन्टर्नेट पर ये पता कर लें कि सबसे लेटेस्ट Android OS कौन सा है। अगर आपका बजट ज्यादा नही है तो आप लेटेस्ट OS वाला फोन नही खरीद पाएंगे, ऐसे मे आपको मार्केट मे सबसे ज्यादा चल रहे OS वाला फोन ही लेना सही रहेगा।


उदाहरण के लिए, इस पोस्ट को लिखने के समय मार्केट मे Android 7.0 “Nougat” आ चुका है लेकिन फिर भी उसका पिछला वर्जन Android 6.0/6.1 Marshmallo बहुत ज्यादा बिक रहा है।

कहने का मतलब है कि अगर आपका बजट ज्यादा नही है तो जरूरी नही है कि आप बिल्कुल लेटेस्ट OS वाला फोन ही खरीदें, उसका पिछला वर्जन भी खरीद सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे ज्यादा पुराना वर्जन जैसे Jelly Bean, Kitkat भूल कर भी न खरीदें क्यूँकि Android के नए वर्जन आने के साथ Play Store के सारे Apps के भी नए वर्जन रिलिज होते है और नया वर्जन पुराने Android OS को सपोर्ट करना बन्द कर देता है।

  • स्क्रीन साइज (Screen Size)

वैसे तो स्क्रीन साइज के मामले में सभी लोगों की पसंद अलग-अलग होती है। किसी को 4 इंच स्क्रीन वाला फोन चाहिए होता है तो किसी को 5 इंच का, कोई 6 इंच स्क्रीन साइज का फोन खरीद कर इतराता है।

अगर आप मुझसे पूछेंगे तो मै आपको यही सलाह दूंगा कि अगर आप अपने फोन से नॉर्मल काम करते हैं तो आप 5 इंच स्क्रीन वाला स्मार्टफोन ही खरीदें। इस साइज के फोन को आप आसानी से अपनी जेब मे भी रख सकते हैं।

अगर आप गेम खेलने के शौकीन हैं या मोबाइल मे विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो 5.5 या 6 इंच स्क्रीन साइज वाला फोन आपके लिए सही रहेगा।

  • स्क्रीन रिजोल्यूशन और क़्वालिटी (Screen Resolution & Quality)

स्मार्टफोन खरीदते वक्त ज्यादातर लोग जो सबसे बड़ी गलती करते हैं वो ये कि स्क्रीन तो बड़ा लेते हैं लेकिन Screen Resolution और Quality पर कोई ध्यान नही देता।

अगर आप नॉर्मल यूजर है तो Screen Resolution कम से कम 720 X 1280 होना चाहिए वही पिक्सेल डेन्सिटी 300 पीपीआई (PPI= Pixels Per Inch) या उसके आस-पास (कम से कम 290) होना चाहिए, अधिक जितना हो सके। जितना ज्यादा PPI होगा, आपके मोबाईल की पिक्चर Quality उतनी ही अच्छी होगी।

अब बात करते हैं Display Type की तो आजकल मार्केट मे कई तरह के Display Type है जैसे LCD, IPS LCD, TFT, OLED, AMOLED इत्यादि। अगर आपके फोन का Resolution कम से कम 720 X 1280 है तो आपके मोबाईल का Display Type IPS LCD होना चाहिए।

वहीं अगर Touchscreen Type की बात करें तो Capacitive Touch Screen बढिया रहेगा।

  • रैम (RAM)

किसी भी स्मार्टफोन मे सबसे ज्यादा जरूरी चीज होती है उस फोन की RAM. आपने बहुत लोगो को ये कहते सुना होगा कि अगर आपके फोन मे RAM ज्यादा है तो आपके फोन के Hang होने के चांस बहुत कम होंगे। कभी सोचा है आपने आखिर ऐसा क्यूँ होता है?


 
सबसे पहले ये जानेंगे कि मोबाईल मे RAM का क्या काम होता है?
 
RAM का मुख्य काम होता है मोबाईल/कंप्यूटर के App/Software को रन करने के लिए स्पेस देना। जब भी हम कोई App ओपेन करते हैं तो वो Internal Memory से Ram मे चला जाता है। 
 
अब मान लिजिए कि आपके मोबाईल का RAM है 512 एमबी और आपने एक साथ 3-4 App ओपेन कर दिया (यहाँ ध्यान देने वाली बात ये है कि RAM का कुछ हिस्सा OS के लिए रिजर्व रहता है), ऐसे मे आपका RAM का स्पेस बिल्कुल खत्म हो जाएगा और आपका मोबाईल Hang होना शुरू हो जाएगा।
 
अगर आपके मोबाईल मे 1 GB या उस से अधिक RAM है तो App को रन करने के लिए पर्याप्त स्पेस मिलेगा जिससे Hang होने के चांस कम होंगे।
 
आजकल सारे स्मार्टफोन एक मल्टी-परपस डिवाइस के रूप मे आ रहे हैं यानि आप एक ही समय मे अपने मोबाईल मे गाने भी सुन सकते हैं और किसी दूसरे एप्प को भी चला सकते हैं। ऐसे मे ये जरूरी हो जाता है कि आपके मोबाईल मे भी RAM ज्यादा होना चाहिए।
 
अगर आप नॉर्मल यूजर हैं तो आपके मोबाईल का RAM कम से कम 1 जीबी जरूर होना चाहिए। अगर आप मेरी राय जानना चाहेंगे तो मै यही कहूँगा कि आप कम से कम 2 GB RAM वाला फोन लें क्यूँकि मोबाईल की दुनिया मे रोज नए अपडेट हो रहे है और रोज लांच होने वाले अपडेट्स के कारण OS या App की साईज भी बढ रही है ऐसे मे अगले एक साल मे 1 GB RAM की भी कोई वैल्यू नही रह जाएगी।


  • प्रोसेसर (Processors)

RAM के साथ ही किसी भी स्मार्टफोन का सबसे जरूरी हिस्सा होता है उसका प्रोसेसर। ये मोबाईल के पूरे सिस्टम को नियंत्रित यानि कंट्रोल करता है। आप प्रोसेसर को मोबाईल का दिमाग भी कह सकते हैं।
 
जब भी आप मोबाईल मे टच करके कोई App ओपेन करते हैं तो ये प्रोसेसर ही होता है जो उस एप्प को Internal Memory से Ram मे ट्रांसफर करता है। आपके टच करने से लेकर App के ओपेन होने तक की सारी जिम्मेदारी प्रोसेसर की होती है।
 
प्रोसेसर जितनी ज्यादा क्षमता वाला होगा आपके फोन की इंटर्नल प्रोसेसिंग उतनी ही तेज होगी जिससे आपके फोन की स्पीड बढेगी और अगर आपके मोबाईल मे RAM भी कम से कम 2 GB का हुआ तो ये सोने पे सुहागा वाली बात हो जाएगी।
 
➤ मोबाईल मे कौन सा प्रोसेसर होना चाहिए।
 
आजकल सबसे ज्यादा Quad Core, Hexa Core और Octa Core प्रोसेसर चल रहे हैं। अगर आप नॉर्मल यूजर हैं तो आपके लिए Quad Core सही रहेगा और अगर आप ज्यादा गेम खेलना पसंद करते हैं तो Octa Core बेस्ट Choice है।
 
प्रोसेसर के साथ Chipset का भी महत्व है। चिपसेट टॉपिक को ज्यादा लंबा न खीचते हुए मै इतना ही कहूँगा कि Snapdragon, Intel और NVIDIA ये कुछ सबसे ज्यादा डिमांड वाले चिपसेट है। ये चिपसेट नए जमाने के Advanced प्रोसेसर के साथ मिल कर स्मार्टफोन को और भी बेहतर बना देते है।
  • कैमरा (Camera)

Important 10 Tips Before Buying Smartphone
 
जब भी कोई नया स्मार्टफोन लेता है तो वो चार चीजें जरूर देखता है Screen Size, RAM, Internal Memory और Camera. अब तो मोबाईल मे ही इतने अच्छे कैमरे आने लगे है कि लोग ट्रेडिशनल कैमरे को भूल ही गए है।
 
स्मार्टफोन लेते वक्त लोग सबसे ज्यादा ध्यान इस बात पर देते हैं कि कैमरा कितने मेगापिक्सेल (MP) का है। ये सही भी है और ऐसा करना भी चाहिए लेकिन उसके साथ एक चीज और हमेशा चेक करनी चाहिए वो है OIS (Optical Image Stabilization)/ Optical Zoom. 


 
जब आप थोडी दूर मौजूद कोई Object का फोटो क्लिक करते हैं और फिर अपने दोस्तो को वो फोटो दिखाते हुए उसे जूम करते हैं तो वो फोटो धूंधली होने लगती है, आम भाषा मे बोलूं तो फोटो फट जाती है। ऐसा कैमरे की Zoom Quality अच्छी नही होने के कारण होता है। 
 
वर्तमान समय को देखते हुए मै यही कहूंगा कि Front कैमरा कम से कम 5 मेगापिक्सल और Rear (पीछेवाला कैमरा) 13 मेगापिक्सल होना चाहिए और Optical Zoom भी कम से कम 4X होना चाहिए। 
 
  • इंटर्नल मेमोरी (Internal Memory)

स्मार्टफोन मे इंटर्नल स्टोरेज भी काफी मायने रखता है। आजकल जितने भी स्मार्टफोन आ रहे है वो ज्यादातर 16 GB मेमोरी वाले होते है और उसके अलावा उसमे अलग से मेमोरी कार्ड लगाने की सुविधा भी होती है जो 64 जीबी से 128 जीबी तक होती है।
 
मै भी यही कहूंगा कि वही फोन लें जिसमे इंटर्नल स्टोरेज कम से कम 16 जीबी हो


  • बैटरी बैकअप (Battery Backup)

देश के लोगों की कुछ प्रमुख समस्याओं के बारे मे पूछा जाए तो मुझे लगता है लोगों की एक समस्या कमजोर बैटरी बैकअप को लेकर भी होगी।
 
देखने मे आता है कि महंगे और बड़े-बड़े स्क्रीन और Specification वाला स्मार्टफोन का बैटरी बैकअप भी इतना घटिया होता है कि लोगों को अलग से पॉवर बैंक लेना पड़ जाता है।
 
वैसे बैटरी की क्षमता फोन के स्पेसिफिकेशन और उसमे प्रयोग किए गए हार्डवेयर के आधार पर ही निर्धारित की जाती है। लेकिन फिर भी मै आपको यही सलाह दूंगा कि जब आप अपने लिए स्मार्टफोन लें तो उसकी बैटरी क्षमता कम से कम 2600 mAh होनी चाहिए
 
  • इंटर्नेट सर्विस (Internet Service)

जियो के फ्री सर्विस देने के कारण आजकल 4G फोन की मांग बढ गई है। आने वाले समय मे टेलिकॉम कंपनियाँ 4G इंटर्नेट पैक का रेट कम कर सकती है इसलिए इस बात को ध्यान मे रखते हुए जब भी आप अपना नया फोन खरीदें तो ये सुनिश्चित करें कि वो 4जी फोन ही हो। 


  • बजट (Budget)

उपर बताये गए सभी फीचर्स के अलावा जो एक चीज सबसे ज्यादा मैटर करता है वो है आपका बजट। कई बार आपको जो फोन पसंद आता है वो आपके बजट से बाहर का होता है जिस कारण आप मन मसोस कर कोई कम फीचर वाला सस्ता फोन ले लेते है और उससे एक साल मे ही परेशान होकर दूसरा अच्छा फोन खरीद लेते हैं लेकिन ऐसा करना आपको ज्यादा महंगा पड़ जाता है।
 
यहाँ मै आपको ये बताना चाहूँगा कि इन्टर्नेट पर कई ऐसी वेबसाईट है जहाँ मोबाईल फोन्स के रिव्यू लिखे होते है वही अलग-अलग ऑनलाईन शॉपिंग कंपनियाँ उस फोन को कितनी कीमत पर दे रही हैं, वो भी लिखा होता है। इसलिए आप स्मार्टफोन लेने से पहले एक बार ऐसी साइट्स को जरूर विजिट करें और प्राइस Compare करने के बाद ही फोन खरीदें। आप चाहें तो ऑनलाइन Book भी कर सकते हैं लेकिन उसके लिए आपके पास क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड (एटीएम कार्ड) या Net Banking होना चाहिए।
नीचे कुछ साइट्स के लिंक दिये गए हैं जहां विजिट कर के आप मोबाईल का प्राइस और रिव्यू देख सकते हैं।
 
 
ऊपर किये गए विश्लेषण के आधार पर एक नॉर्मल फोन मे नीचे दी गई Specification होनी चाहिए। ये Specification मेरे पसंद पर आधारित है, आप चाहे तो अपना Specification खुद सेट कर सकते हैं।
 
Operating System Android OS, v6.0 (Marshmallow)
Screen Size 5.0 Inches
Display Type IPS LCD
Touchscreen Type Capacitive
Screen Resolution 720 X 1280 Pixels
Ram 2 GB
Processors Quad Core (1.2 Ghz & above)
Internal Memory 16 GB
Camera Front 5 MP, Rear 13 MP
Internet Service 2G/3G/4G
Battery 2600 mAh (& Above)
 
आपको ये जानकारी कैसी लगी, कमेंट कर के जरूर बताइयेगा। अगर कोई सवाल या सुझाव हो तो हमे कमेंट या ई-मेल कर के बताना मत भुलियेगा। हमारे पोस्ट को अपने इन्बॉक्स मे पढने के लिए हमे सब्सक्राईब करना मत भुलियेगा। धन्यवाद!!

Isey Bhi Padhein

loading…


3

Janiye Jio Prime Membership Offer Kya Hai?


 
जियो!!!! ये एक ऐसा नाम है जिसने 6 महीने मे देश के सभी टेलिकॉम कंपनियों को हिला कर रख दिया। ये टेलिकॉम कंपनियाँ 1 जीबी डाटा के लिए 250-300 रूपये लेती थी लेकिन जियो ने आते ही न सिर्फ डाटा बल्कि कॉल भी फ्री कर दिया।
 
कॉल और डाटा फ्री करते ही देश मे एक तुफान सा आ गया। हर कोई जियो लेने के लिए दौड़ पड़ा। इस स्थिति से निपटने के लिए दूसरी टेलिकॉम कंपनियों ने भी अपने-अपने डाटा का रेट कम किया और जियो को टक्कर देने के लिए कम कीमत पर कई सारे नये ऑफर भी लांच किये। 
 
लेकिन लोगों का झुकाव अभी भी जियो की तरफ बढता ही जा रहा है। जियो की लोकप्रियता को देखते हुए कंपनी ने Happy New Offer को 31 दिसम्बर से बढाकर 31 मार्च 2017 तक कर दिया है।


What is Happy New Offer?
हैप्पी न्यू ऑफर क्या है?
 
हैप्पी न्यू ऑफर के तहत जियो यूजर को रोज 1 GB 4G डाटा और अनलिमिटेड कॉल मिलता है। यही नही 1GB 4G डाटा खत्म होने पर स्लो स्पीड मे भी डाटा मिलता रहेगा यानि डाटा पैक डलवाने की कोई जरूरत नही है। 
 
जियो कंपनी के मालिक मुकेश अंबानी ने 21 फरवरी 2017 को एक बड़ा ऐलान करते हुए बताया था कि जियो के यूजर्स की संख्या 100 मिलियन यानि 10 करोड़ पार कर गई है। 
 
इस अवसर पर मि. अंबानी ने जियो प्राइम का ऐलान किया। बहुत लोग अभी भी जियो प्राइम मेम्बरसिप के बारे मे नही जानते हैं या अभी तक उसे ठीक से समझ नही पाएं हैं। 
लोगों को जियो प्राइम के बारे मे समझाने के लिए हम इस पोस्ट को प्रश्नोत्तरी के तौर पर पेश करेंगे। ज्यादा देर नही करते हुए आइये जानते है –
 
प्रश्न 1: जियो प्राइम क्या है?
 
उत्तर: जियो प्राइम, जियो की मेम्बरसिप ऑफर (Membership Offer) है। वो सभी यूजर्स जो अभी जियो से जुड़े हुए है या 31 मार्च 2017 से पहले जियो से जुड़ेंगे वो सभी जियो प्राइम मेम्बरसिप ले सकते हैं।
 
प्रश्न 2: जियो प्राइम मेम्बरसिप लेने के लिये क्या करना पड़ेगा?
 
उत्तर: जियो प्राइम मेम्बरसिप लेने के लिये आपको अपने जियो नम्बर को 99 रूपये से रिचार्ज करना होगा। ये रिचार्ज आप My Jio App या जियो की वेबसाईट www.jio.com या जियो के Authorized स्टोर पर जाकर भी कर सकते है।
 
Jio Prime Membership
 
प्रश्न 3: जियो प्राइम मेम्बरसिप कौन-कौन लोग ले सकते हैं?
 
उत्तर: हर वो जियो यूजर जो 31 मार्च 2017 तक जियो से जुड़ेगा, वो जियो प्राइम मेम्बरसिप ले सकता है।
 
प्रश्न 4: जियो प्राइम मेम्बरसिप (Jio Prime Membership) लेने से हमे क्या फायदा होगा?
 
उत्तर: जियो प्राइम मेम्बरसिप लेने से हमे 31 मार्च 2018 तक 303 रूपये के रिचार्ज पर रोज 1 जीबी डाटा, अनलिमिटेड कॉल, 100 एसएमएस मिलेगा और 10,000 रूपये तक के प्रीमियम एप्प भी फ्री मे यूज कर सकते हैं। 
 
रिचार्ज की वैलिडिटी 28 दिन की होगी यानि अगर आप 1 अप्रैल को 303 रूपये से अपने जियो नम्बर को रिचार्ज करते हैं तो आप उपर बतायी गई सभी सुविधा 28 अप्रैल के रात 12 बजे तक उठा सकते हैं। इस सुविधा का लाभ लेते रहने के लिए आपको 29 अप्रैल को फिर से 303 रूपये से रिचार्ज करना होगा।


प्रश्न 5: अगर मै जियो प्राइम मेम्बरसिप नही लेता हूँ तो क्या होगा?
 
उत्तर: 31 मार्च 2018 तक जियो प्राइम मेम्बरसिप नही लेने पर आप जियो द्वारा मिलने वाले सुविधाओं का लाभ नही ले पाएंगे। प्राइम मेम्बर नही बनने पर आपको 303 रूपये के रिचार्ज पर 28 दिनो के लिए अनलिमिटेड कॉल मिलेगा लेकिन डाटा सिर्फ 2.5 जीबी मिलेगा। इसके अलावा आपको प्रीमियम एप्प की सुविधा भी नही मिलेगी।
 
प्रश्न 6: मैं जियो यूजर नही हूँ लेकिन जियो ज्वाइन करना चाहता हूँ। मुझे क्या करना चाहिए?
 
उत्तर: अगर आपने अभी तक जियो सिम नही लिया है तो 31 मार्च 2017 तक जियो सिम ले लें। जियो के नए ऐलान के बाद 4 मार्च 2017 के बाद जियो ज्वाइन करने वाले यूजर्स को हैप्पी न्यू ऑफर का लाभ लेने के लिए उसी वक्त जियो प्राइम मेम्बरसिप के तहत 99 रूपये से अपने जियो नम्बर को रिचार्ज करना जरूरी है। 
 


प्रश्न 7: क्या मैं अपना नम्बर जियो में पोर्ट करा सकता हूँ?
 
उत्तर: जी हाँ। Telecom Regulatory Authority of India (TRAI) के गाइडलाइंस के अनुसार आप किसी भी नेटवर्क मे पोर्ट करा सकते हैं, यहाँ तक कि जियो मे भी।
 
प्रश्न 8: जियो मे पोर्ट कराने पर मुझे क्या Benefit मिलेगा?
 
उत्तर: अगर आप 31 मार्च 2017 तक जियो मे पोर्ट करा लेते हैं तो आप भी जियो के प्राइम मेम्बर बन कर 1 अप्रैल से जियो के सारे ऑफर का लाभ ले सकते हैं।
 


प्रश्न 9: जियो में पोर्ट कराने के लिए मुझे क्या करना होगा?
 
उत्तर: जियो मे पोर्ट कराने के लिए सबसे पहले आपको पोर्ट नम्बर लेना होगा। पोर्ट नम्बर लेने के लिए आप अपने मोबाइल के मैसेज मे जाकर Port (अपना 10 डिजिट का मोबाइल नम्बर) टाइप कर के 1900 पर सेंड कर दें। कुछ ही सेकेंड मे आपको आपका पोर्ट नम्बर मिल जाएगा। जैसे (PORT 1234567891)
 
पोर्ट नम्बर लेकर आप अपने नजदीकी जियो स्टोर पर अपने आधार कार्ड और एक फोटो लेकर जाएं। वहाँ जरूरी Verification के बाद आपको जियो का पोर्ट सिम मिल जाएगा और 7-10 दिन मे आपका नम्बर जियो मे कन्वर्ट हो जाएगा।
 
प्रश्न 10: जियो सिम लेने के बाद My Jio App Install करना जरूरी है?
 
उत्तर: जी हाँ। जियो सिम लेने के बाद My Jio App, Install करना जरूरी है क्यूँकि My Jio App मे जाकर आपको अपनी जियो नम्बर से आईडी बनानी होगी और फिर उस आईडी को Verify कर के My Jio App मे Login कर के आप अपना डाटा यूजेस और कॉल डिटेल चेक कर सकते हैं।
 
अगर आप जियो एप्प नही डाउनलोड करते हैं तो आपको जियो की वेबसाईट पर जाकर अपनी आईडी बनानी पड़ेगी।
 
Jio Prime Membership
 
प्रश्न 11: जियो प्राइम मेम्बरशिप लेने पर मुझे कौन-कौन से एप्प मिलेंगे?
 
उत्तर: जियो प्राइम मेम्बरशिप लेने पर आपको नीचे दिये गए एप्प मिलेंगे
 
  1. Jio TV: इस एप्प पर आप अपने पसंद के टीवी प्रोग्राम बिल्कुल लाईव देख सकते हैं।
  2. जियो सिनेमा: इस एप्प पर आप कोई भी मूवी देख सकते हैं इसके अलावा आप अपने पसंद के विडियो देखने की डिमांड भी कर सकते हैं।
  3. जियो म्युजिक: इस एप्प पर आप अपने पसंद के म्युजिक सुन सकते हैं।
  4. जियो मैग्स: इस एप्प पर आप अपने पसंद के Magazines पढ सकते हैं।
  5. जियो एक्सप्रेस न्यूज: इस एप्प पर आपको न्यूज मिलेगा।
  6. जियो क्लाउड: इस एप्प के जरिये आप अपने कोई भी फाइल को क्लाउड यानि इंटरनेट पर रख सकते हैं। ऐसा करने पर आपको अपनी फाइल को एक जगह से दूसरे जगह ले जाने के लिए पेन ड्राइव की जरूरत नही पड़ेगी। इसके अलावा आप दूर बैठे अपने मित्र को उस फाइल का लिंक भी दे सकते हैं जिससे वो जब चाहे, फाइल डाउनलोड कर सकता है। जियो क्लाउड आपको 5 जीबी की स्टोरेज देगा।
  7. माय जियो एप्प: इस एप्प से आप अपने जियो अकाउंट्स को मैनेज कर सकते हैं।


प्रश्न 12: अगर मै 31 मार्च के पहले 303 रूपये से रिचार्ज कर लूँ तो क्या मेरा फ्री बेनेफिट खत्म हो जाएगा?
 
उत्तर: जी नही। अगर आप 31 मार्च 2017 से पहले 303 रूपये का रिचार्ज कर लेते हैं तो भी आपके फ्री बेनेफ़िट पर कोई असर नही पड़ेगा। अगर आप 31 मार्च से पहले 303 रूपये का रिचार्ज कर लेते हैं तो 1 अप्रैल से ये रिचार्ज एक्टिवेट हो जाएगा जिसकी वैलिडिटी 28 अप्रैल तक रहेगी। 
 
दोस्तों, ये था जियो से संबंधित कुछ जरूरी बातें जो आप सभी को जाननी चाहिए। ये सभी बातें जियो वेबसाईट के FAQ (Frequently Asked Questions) के आधार पर लिखा गया है। 
 
उम्मीद करता हूँ आपको आज का पोस्ट पसंद आया होगा। पोस्ट से संबंधित कोई सवाल या सुझाव तो तो मुझे कमेंट कर के या ई-मेल कर के जरूर बतायें। हमारे नये पोस्ट को अपने इनबॉक्स मे पाने के लिए हमे सब्सक्राईब करना ना भुलें। धन्यवाद!!!!

Isey Bhi Padhein

loading…


0

Whatsapp Hack Hone Se Kaise Bachaye

Whatsapp
 
दोस्तों, आजकल हर किसी के पास स्मार्टफोन है और ज्यादातर लोग Whatsapp तो जरूर यूज करते होंगे। व्हाट्सएप्प से हम दुनिया के किसी भी कोने मे कोई भी मैसेज, फोटो, विडियो और डॉक्युमेंट Send कर सकते हैं।
 
इसके अलावा ज्यादातर लोग व्हाट्सएप्प का यूज पर्सनल चैट/मैसेज के लिए भी करते हैं। हम सभी ये मानकर चलते हैं कि व्हाट्सएप्प सुरक्षित है और हमारा चैट कोई भी नही पढ सकता। अब तो व्हाट्सएप्प ने भी End-to-End Encryption Security Enable कर के व्हाट्सएप्प को और भी ज्यादा Secure कर दिया है।
End-to-End Encryption Security फीचर्स Launch कर के व्हाट्सएप्प ने दावा किया है कि अब आपका मैसेज आपके और मैसेज Receive करने वाले के अलावा और कोई नही पढ सकता यहाँ तक कि व्हाट्सएप्प भी नही। ये बात पूरी तरह से सच भी है।
 
लेकिन जैसा कि आप सभी जानते हैं जब भी मार्केट मे कोई नई Technology आती है तो अगले दिन उसका कोई न कोई तोड़ भी आ जाता है। ठीक ऐसा ही व्हाट्सएप्प के साथ भी हुआ है। व्हाट्सएप्प कंपनी ने तो अपने तरफ से व्हाट्सएप्प को पूरी तरह से सुरक्षित कर दिया है लेकिन आपकी तरफ से हुई एक छोटी सी गलती से आपका व्हाट्सएप्प हैक हो सकता है।
 
जी हाँ, आपने सही पढा। तमाम सिक्युरीटी फीचर्स होने के बावजूद आपका व्हाट्सएप्प हैक हो सकता है। आज हम इस पोस्ट मे ये जानेंगे कि ऐसा कैसे हो सकता है और उससे बचने के लिए हमे क्या करना चाहिए?

 


व्हाट्सएप्प कैसे हैक किया जा सकता है?

How to Hack Whatsapp?

 
  1. वेरीफिकेशन कॉल या मैसेज से

जब भी हम व्हाट्सएप्प Install कर के उसमे अपना नम्बर डालते हैं तो हमारे उस नम्बर पर एक Verification कॉल या मैसेज आता है जिसमे बताये गए कोड को व्हाट्सएप्प मे डालने से व्हाट्सएप्प एक्टीवेट हो जाता है।
 
अब मान लिजिए आपके किसी जानने वाले ने अपने मोबाईल के व्हाट्सएप्प मे आपका मोबाईल नम्बर डाला और फिर उसी वक्त आपसे किसी बहाने से 1-2 मिनट के लिए आपका मोबाईल ले लिया।
 
आपका मोबाईल लेकर उसमे आए Verification Code को वो अपने मोबाईल के व्हाट्सएप्प मे डाल कर आपका व्हाट्सएप्प अपने मोबाईल मे एक्टीवेट कर लेगा और आपके मोबाईल से वो कोड डिलीट कर देगा जिससे आपको पता भी नही चलेगा कि ऐसा कोई मैसेज भी आया था।

 

  • व्हाट्सएप्प वेब से

व्हाट्सएप्प ने Whatsapp Web नाम से एक नया फीचर लांच किया है जिसकी मदद से आप अपने लैपटॉप मे भी व्हाट्सएप्प चला सकते हैं और ऐसा कर के व्हाट्सएप्प ने आप सभी के व्हाट्सएप्प हैकिंग को बहुत ही आसान बना दिया है।
 
Whatsapp Web की मदद से कोई भी आपका व्हाट्सएप्प सिर्फ 5 सेकेंड मे हैक कर सकता है। यकीन नही हुआ न? लेकिन ये बात बिल्कुल सच है।
Whatsapp Hack Hone Se Kaise Bachaye
 
कोई भी व्यक्ति या आपका परिचित अपने लैपटॉप मे Web.whatsapp.com ओपन करेगा और आपसे किसी बहाने से आपका मोबाईल लेकर व्हाट्सएप्प मे जाएगा और वहाँ से whatsapp web मे जो QR Code है उसे अपने लैपटॉप मे स्कैन कर लेगा और सिर्फ 5 सेकेंड मे आपका व्हाट्सएप्प उस व्यक्ति के लैपटॉप मे खुल चुका होगा और वो आपके जिस मैसेज को पढना चाहे उसे पढ सकता है।
 
  • चैट बैक अप से

आप सभी को पता होगा कि व्हाट्सएप्प रोज रात मे आपके पूरे चैट का बैकअप लेता है और उस फाईल को आपके व्हाट्सएप्प फोल्डर के Database फोल्डर मे Save करता है।
 
इसके अलावा आप अपने किसी भी पर्सनल चैट को किसी को भी ई-मेल कर सकते हैं वो भी फोटोज और विडियो के साथ। किसी खास चैट को ई-मेल करने के लिए Setting >> Chats >> Chat History मे जाकर ई-मेल चैट पर क्लिक करना होता है। उसके बाद आपका चैट बॉक्स खुल जाएगा, उसमे से जिस चैट को Mail करना है उसे सेलेकट कर लेना है और फिर एक ऑप्शन आएगा Without Media और Attach Media.
Whatsapp Hack Hone Se Kaise Bachaye
Whatsapp Hack Hone Se Kaise Bachaye
 
अपनी पसंद का ऑप्शन सेलेकट करने पर आपको ईमेल का ऑप्शन दिखेगा जहां आप रिसीवर का ई-मेल आईडी डाल कर उस पूरे चैट को उसे Send कर सकते हैं।
 
  • आपके फोन को Remotely कंट्रोल कर के

कुछ सॉफ्टवेयर/एप्प जैसे Teamviewr, Quick Support, Airdroid है जिनकी मदद से कोई भी आपके मोबाईल फोन को दूर बैठकर ही अपने कंप्यूटर मे चला सकता है।
 
अगर इनमे से कोई भी सॉफ्टवेयर/एप्प आपके मोबाईल मे बिना आपकी जानकारी के Install हो तो उसे उसी वक्त Uninstall कर दें। इसके अलावा कोई भी ऐसा सॉफ्टवेयर या एप्प जो आपने Install नही किया हो और फिर भी वो आपके मोबाईल मे Install दिखा रहा है तो उसे भी Uninstall कर दें।
 
ये तो मैने आपके लिये बताया लेकिन ऐसा कोई भी आपके साथ कर सकता है।
 
ये तो था व्हाट्सएप्प हैंकिंग का तरीका। ये तरीका यहाँ बताना इसलिए जरूरी था क्युँकि ऐसा कोई भी आपके साथ कर सकता है और आपको पता भी नही चलेगा लेकिन ये पोस्ट पढने के बाद आपको भी इन तरीको के बारे मे पता चल गया है तो मै उम्मीद करता हूँ आगे से आप सावधान रहेंगे।
 
अब जानते है अपने

व्हाट्सएप्प को हैक होने से बचाने के उपाए के बारे में।

Tips for Prevent Whatsapp Hacking

सबसे पहला और बेस्ट उपाए है App Lock का यूज करना। App Lock से आप अपने मैसेज, कॉल और व्हाट्सएप्प को Lock रखें, जिससे कोई भी न तो आपका मैसेज पढ पाएगा और न ही व्हाट्सएप्प खोल पाएगा।
 
अगर आपके मोबाईल मे App Lock नही है या कौन सा एप्प आपके मोबाईल के अच्छा रहेगा, ये तय नही कर पा रहे हैं तो हमारा ये पोस्ट जरूर पढें:- Best Applock For Android
 
दूसरा उपाए– किसी ने आपके व्हाट्सएप्प का QR Code स्कैन किया है या नही ये चेक करने के लिए आप अपने व्हाट्सएप्प के व्हाट्सएप्प वेब मे जाईये जो कि सेटिंग के ऊपर मिलेगा।
Whatsapp Hack Hone Se Kaise Bachaye
 
अगर आपका QR Code स्कैन हुआ है तो वहाँ Logged In Computers लिखा आएगा और विन्डोज का नाम भी लिखा होगा, साथ मे Last Active भी दिखेगा। आपको सिर्फ इतना करना है कि वहाँ Logged Out From All Computers लिखा होगा, उस पर टच कर देना है।
 
टच करते ही आप सभी कंप्यूटर्स/लैपटॉप्स से Logout हो जाइएगा।
 
तीसरा उपाएTwo-Step Verification. व्हाट्सएप्प ने अभी कुछ दिन पहले ही Two-Step Verification फीचर्स एड किया है। ये अब तक का सबसे सिक्योर फीचर्स माना जा रहा है।
Whatsapp Hack Hone Se Kaise Bachaye
 
इसके लिए सबसे पहले आपको अपने व्हाट्सएप्प को अपडेट करना होगा। उसके बाद आप व्हाट्सएप्प के Setting >> Account मे जाइए। वहाँ Two-Step Verification लिखा दिखेगा। उसे टच करिये। अब आपके सामने एक स्क्रीन आएगा जिस पर Enable लिखा होगा। Enable पर टच करने पर आपसे आपकी पसंद का 6 डिजिट कोड सेट करने को कहा जाएगा।
 
कोड सेट करते ही ई-मेल पूछा जाएगा जो कि ऑप्शनल है आप चाहे तो ई-मेल नही भी दे सकते है।

 

इस Two-Step Verification का सबसे बड़ा फायदा ये है कि अगर कोई आपके मोबाईल से किसी भी तरह आपका व्हाट्सएप्प कोड चुरा ले और फिर अपने मोबाईल मे आपका व्हाट्सएप्प खोलना चाहे तो व्हाट्सएप्प उससे वो 6 डिजिट कोड मांगेगा जो आपने Two-Step Verification मे सेट किया था।
 
अब उस व्यक्ति को तो आपका कोड मालूम होगा नही तो वो चाह कर भी आपका व्हाट्सएप्प खोल नही पाएगा।
 
दोस्तों, ये था व्हाट्सएप्प हैकिंग Tricks और उससे बचने का उपाय। उम्मीद करता हूँ आपको आज का पोस्ट पसंद आया होगा। कोई भी सवाल या सुझाव हो तो कमेंट या ई-मेल कर के जरूर बताएं और हमारे पोस्ट को अपने इनबॉक्स मे पढने के लिए हमे सब्सक्राईब करना मत भुलिएगा। धन्यवाद!!!!

Isey Bhi Padhein

loading…


1

Domain Name Blogger Me Kaise Add Kare | Puri Jankari Hindi Me

Domain Name

दोस्तों, पिछले पोस्ट मे आपने पढा कि अपना डोमेन कैसे रजिस्टर करते हैं। आज मै आपको बताउँगा कि डोमेन को ब्लॉगर मे कैसे जोड़ते हैं। जब आप किसी से कहते हैं कि आपने अपना खुद का वेबसाईट बनाया है तो लोग हैरान हो जाते होंगे लेकिन जब आप अपने ब्लॉग का लिंक उन्हे देते होंगे तो वो ये कह कर आपका मजाक उड़ा देते होंगे कि ये तो फ्री प्लेटफॉर्म पर बनाया है। ये तो कोई भी कर सकता है।



लेकिन जब आप अपना खुद का डोमेन रजिस्टर कर लेते हैं और फिर उन्हे अपने वेबसाईट का लिंक देंगे जैसे तो वो लोग लास्ट मे .COM देख कर न सिर्फ हैरान होंगे बल्कि उन पर आपका अच्छा Impression जमेगा।
 
अब सवाल उठता है कि अपने ब्लॉग लिंक मे से Blogspot कैसे हटायें। इसके लिए सबसे पहले आपके पास अपना खुद का Purchase किया हुआ डोमेन होना चाहिए। अगर आपने अभी तक डोमेन Purchase नही किया है तो डोमेन Purchase करने के लिये हमारा ये पोस्ट Domain Register Kaise Kare जरूर पढें।
 

Blogspot को वेबसाईट मे बदलने के लिए जरूरी स्टेप्स:-

 
1) सबसे पहले आपके पास ब्लॉगर पर अपना खुद का ब्लॉग होना चाहिए। अगर आपके पास ब्लॉग नही है तो यहाँ क्लिक कर के कुछ ही मिनट मे अपना ब्लॉग बनाएं।
 
2) आपके पास परचेज किया हुआ डोमेन होना चाहिए।
 
दोस्तों मैने तो Godaddy पर डोमेन रजिस्टर किया है लेकिन आप चाहें तो किसी भी डोमेन रजिस्टर वेबसाईट से डोमेन रजिस्टर कर सकते हैं।
 
डोमेन को ब्लॉगर मे सेटअप करने का स्टेप:-
 
मै ये स्टेप Godaddy मे कर के बताउंगा। अगर आपने दूसरे वेबसाईट से डोमेन परचेज किया है तो भी प्रोसेस लगभग एक ही जैसा रहेगा। 
 
Step #1 सबसे पहले आप ब्लॉगर मे Login करिये और Setting >> Basic >> Publishing मे जाकर + Set up a third-party URL for your blog पर क्लिक करिये।
 
Blog Ko Website Me Badle
 
Step #2 अब बॉक्स मे अपना डोमेन डालिए और सेव पर क्लिक कर दिजिए। क्लिक करते ही आपके सामने फोटो मे दिखाया गया एरर आएगा।
 
Blog Ko Website Me Badle
आपके सामने जो CNAME दिख रहा है उसे आपके डोमेन से जोड़ना है। इसलिए अब आप उस पेज को खुले रख कर नये टैब मे Godaddy मे Login करिये
 
Step #3 Login करने के बाद अपने नाम/यूजरनेम पर क्लिक करिये और फिर Manage My Domains पर क्लिक करिये।
 
Blog Ko Website Me Badle
 
Step #4 अब आपके सामने जो पेज खुलेगा, उसमे आपका डोमेन दिखेगा, वहाँ डोमेन के सामने दिख रहे Drop Down Button पर क्लिक करना है, एक Pop-Up आएगा, उसमे Manage DNS पर क्लिक करना है।
 
Blog Ko Website Me Badle
 
Step #5 अब जो पेज खुलेगा उसमे DNS Zone File पर क्लिक करना है, और फिर Add Record  पर क्लिक करना है।
 
Blog Ko Website Me Badle
Step #6  Add Record पर क्लिक करते ही एक Pop-Up खुलेगा, उसमे दिए गए डाटा को भरना है और Add Another पर क्लिक कर देना है।
 
1) Record Type में A(Host) सेलेक्ट करना है।
2) Host में @ भरना है।
3) Points to में  216.239.32.21 भरना है।
4) TTL में 1 Hour सेलेक्ट करना है।
 
और Add Another पर क्लिक कर देना है, और यही प्रोसेस 3 बार और दोहराना है। अगले तीन बार Points to में क्रमश: 
216.239.34.21, 
216.239.36.21, 
216.239.38.21 
भरना है और फिनिश पर क्लिक कर देना है।
Blog Ko Website Me Badle
Step #7 एक बार फिर Add Another पर क्लिक करते ही आपके सामने Drop Down Menu खुलेगा जिस पर क्लिक कर के आप CNAME (Alias) को सेलेक्ट कर लें। CNAME (Alias) सेलेक्ट करते ही आपके सामने Host, Points to और TTL बॉक्स भी दिखेगा।
Blog Ko Website Me Badle
 
 1) CNAME (Alias) सेलेक्ट करें
 2) Host मे www डालें
 3) Points to मे ghs.google.com डालें
 4) TTL 1 घंटा रहने दें।
 
Step #8 अब फिर Add Another बटन पर क्लिक करें। Drop Down Menu मे से CNAME (Alias) सेलेक्ट करें।
 
Blog Ko Website Me Badle
 
1) CNAME (Alias) सेलेक्ट करें
2) ब्लॉगर मे दिये गए कोड 2 के छोटे हिस्से को Host में डालें 
3) Points to मे कोड 2 के छोटे हिस्से के सामने वाला हिस्सा डालना है। उपर के फोटो को ध्यान से देखिये।
4) TTL 1 घंटा रहने दें।
अब Finish पर क्लिक कर दें
 
Step #9  Finish पर क्लिक करते ही उपर Save Changes का मैसेज आएगा। आपको Save Changes पर क्लिक कर देना है। Save पर क्लिक करने के बाद आप जब उसी पेज मे नीचे की तरफ जाएंगे तो आपके द्वारा Add किया गया सारा डाटा दिख जाएगा।
 
Blog Ko Website Me Badle
Step #10 अब आप ब्लॉगर मे Setting मे जाकर Save पर क्लिक कर दें।
 
Blog Ko Website Me Badle
 
 Save होते हीं आपका ब्लॉगर ऐसा दिखने लगेगा।
 
Blog Ko Website Me Badle
Save करने के बाद वहाँ आपके ब्लॉग के आगे Redirect और डोमेन के आगे Edit लिखा आएगा, जैसा उपर के फोटो मे दिख रहा है। आपको Edit पर क्लिक करना है। वहाँ आप देखेंगे कि आपके डोमेन के ठीक नीचे एक बॉक्स बना हुआ है जिसके आगे Redirect…. लिखा हुआ है, आपको उस बॉक्स को टिक (✔) करके Save कर देना है।

Blog Ko Website Me Badle


दोस्तों, DNS Setting अपडेट होने मे 24 घंटे तक का टाईम लग जाता हैइसलिए मै आपसे यही कहूँगा कि तब तक इंतजार करें 24 घंटे मे ही आपका blogspot, .com पर Redirect हो जाएगा। 

 
अगर ऐसा नही होता है तो इसका मतलब है कि आपसे कही गलती हुई है। फिर आपको पूरा Process शुरू से चेक करना होगा। 
 
आपको पोस्ट में दी गई जानकारी कैसी लगी, इस बारे में कमेंट कर के जरूर बताइयेगा। अगर कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट या ई-मेल कर के जरूर बताइयेगा। हमारे नये पोस्ट को अपने Inbox मे पाने के लिए हमे Subscribe जरूर करें। धन्यवाद।

Isey Bhi Padhein

loading…


1

Domain Register Kaise Kare | Domain Kharidne ki puri jankari Hindi me

Domain
दोस्तों, आपने अभी तक ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाना सीखा है। आज मै आपको Domain रजिस्टर कैसे करें, इस बारे में बताउँगा। डोमेन रजिस्टर करते ही हमारा ब्लॉग, वेबसाईट बन जाता है। डोमेन रजिस्टर करने के लिए हमे सबसे पहले किसी Domain Selling वेबसाईट पर खुद को रजिस्टर करना पड़ता है और फिर वहाँ से अपने पसन्द का डोमेन (अगर Available रहा तो) खरीदते हैं।
 
वैसे तो Domain Selling वेबसाईट बहुत सारी है लेकिन उनमे से सबसे फेमस नाम है Godaddy.com का। आज मै इस पोस्ट के जरिये आपको बताउँगा कि Godaddy पर डोमेन कैसे रजिस्टर करते हैं।
 
आप चाहे तो किसी दूसरी Domain Selling वेबसाईट से डोमेन रजिस्टर कर सकते हैं, ये पूरी तरह से आपकी मर्जी पर निर्भर करता है लेकिन डोमेन रजिस्टर करने का Process एक जैसा ही रहेगा।
 

डोमेन कैसे खरीदें ( How To buy Domain)

 
डोमेन खरीदने से पहले यहाँ लिखे गए सारे Steps को ध्यान से पढिए।
 
Step #1 सबसे पहले Godaddy कि साईट पर जाएं।
 
Step #2 अगर आपने पहले से Godaddy पर अकाउंट बना रखा है तब आप वहाँ Sign In पर क्लिक करेंगे और अगर अकाउंट नही है तो Create My Account पर क्लिक करेंगे।
 
Domain Register Kaise Kare
 
Step #3 Create My Account  पर क्लिक करते ही आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा जिसमे नीचे दी गई जानकारी भरना है।
 
Domain Register Kaise Kare
 #1  पहले  बॉक्स मे आपको अपना ई-मेल आईडी डालना है।
 
#2 अब आप अपने Godaddy अकाउंट के लिए यूजरनेम चुनिये। यूजरनेम 5-30 शब्दों का होना चाहिए। इस यूजर नेम से ही आप अगली बार  Godaddy पर Login कर पाएंगे। 
 

#3  तीसरे बॉक्स मे पासवर्ड डालना है। पासवर्ड कम से कम 9 शब्दों का     होना चाहिए। और वो नम्बर और Latter से मिल कर बना होना चाहिए जिसमे कम से कम एक Latter Capital होना चाहिए। इसके साथ ही  पासवर्ड के शुरू या अंत मे Space नही होना चाहिए।

 

#4  चौथे बॉक्स मे आपको चार नम्बर का पिन सेट करना है और ये पिन   आपको याद रखना होगा। जब भी आप Godaddy के कस्टमर केयर को फोन करेंगे तो आपसे ये पिन नम्बर पूछा जाएगा।

 
बधाई हो, अब आपका Godaddy पर अकाउंट बन चुका है।

 

Step #4 अब आप Godaddy मे Login करिये। Login करते ही Home Page पर आपको सर्च बॉक्स दिखेगा। 
 
Domain Register Kaise Kare
 
 
उसमे आपको अपने वेबसाईट का वो नाम डालना है जो आप रजिस्टर करना चाहते हैं। अगर वो डोमेन किसी और ने रजिस्टर कर लिया होगा तो वो आपको नही मिलेगा।
 
Step #5 अगर आपके पसन्द का डोमेन मिल जाए तो सबसे पहले आप उस डोमेन का Spelling चेक करें, फिर उसका Price चेक करें, उसके बाद उसे Select कर के Continue To Cart पर क्लिक कर दें।
 
Domain Register Kaise Kare
 
 
Step #6 अब आपके सामने एक नया विंडो खुलेगा जिसमे आपको कई ऑफर दिये जाएंगे जैसे वेब होस्टिंग, एंटीवायरस, ई-मेल इत्यादि। इन सभी को छोड़कर सबसे नीचे जाइए। वहाँ आपको Continue To Cart बटन दिखेगा, उस पर क्लिक कर दीजिए।
 
Domain Register Kaise Kare


Domain Register Kaise Kare
Domain Register Kaise Kare
Step #7 अब अगले पेज मे आपका डोमेन और उसकी डिटेल दिखेगी। आप कितने साल के लिए डोमेन रजिस्टर करना चाहते हैं, Drop Down Menu से उतना साल Select कर लें। साल के हिसाब से आपका जो Amount बनता है उसमे टैक्स जोड़ कर आपको टोटल Amount दिखने लगेगा।
 
Domain Register Kaise Kare
 
 
सब कुछ अच्छे से चेक करने के बाद Proceed To Checkout पर क्लिक कर दें।
 
Step #8 अब आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा जिसमे आपको अपना नाम, पता, मोबाईल नम्बर ये सब भरना है।
 
Domain Register Kaise Kare
 
Step #9 अब पेमेंट किस Method से करना है (क्रेडिट या डेबिट कार्ड से या नेट बैंकिंग से) ये Select करें और Continue बटन पर क्लिक कर दें।
 
Domain Register Kaise Kare


Step #10 अगले पेज पर आपके द्वारा भरी गई पूरी डिटेल दिखेगी, उसे अच्छे से चेक कर लें। अपने डोमेन की Spelling फिर से चेक करें, Total Amount कितना Pay करना है ये भी देख लें और अपनी पेमेन्ट डिटेल (क्रेडिट या डेबिट कार्ड या नेट बैंकिंग) भरें और Make Payment बटन पर क्लिक करें।
Domain Register Kaise Kare



Step #11 अपनी Contact Detail भरें और Payment Method Select कर के उसका डिटेल भरें और Make Payment पर क्लिक कर दें।
 
Step #12 अब आप अपने बैंक की साईट पर पहुँच जाएंगे जहाँ आपको पेमेन्ट करना है। Payment Complete होते ही आप Godaddy की साईट पर पहूँच जाएंगे।
 
एक बार फिर से आपको बधा, अब आपका डोमेन रजिस्टर हो चुका है।
 
अपना डोमेन कैसे देखें
 
#1 अपना डोमेन देखने के लिए उपर अपने Username पर क्लिक करें
#2 Manage My Domain पर क्लिक करें।

Domain Register Kaise Kare



क्लिक करते ही आपके द्वारा रजिस्टर की गई डोमेन की लिस्ट आ जाएगी।
 
दोस्तों, ये तो था डोमेन रजिस्टर करने का Process. अपने अगले पोस्ट मे मै बताउंगा कि डोमेन को ब्लॉगर मे कैसे एड करते हैं।
 
आपको ये पोस्ट कैसा लगा इस बारे मे कमेंट कर के जरूर बताइयेगा। कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट और ई-मेल के जरिये मुझे जरूर बताइयेगा और हमारे सभी पोस्ट को अपने ई-मेल मे पाने के लिए हमे सब्सक्राईब करना मत भुलियेगा। धन्यवाद। 

Isey Bhi Padhein:

loading…


4

Blogger Me Free Custom Domain Kaise Setup Karein

Free Custom Domain
 
हैल्लो दोस्तों, एक बार फिर आपका स्वागत है मेरे नये पोस्ट मे। अभी तक मैने आपको Adsense के पोस्ट के बारे मे बताया। आज आपको मै बताउंगा कि अपने ब्लॉग के लिए बिल्कुल Free Custom Domain यानि खुद का डोमेन कैसे सेट करते हैं।
दोस्तों, कई वेबसाईट हमे फ्री मे कस्टम डोमेन यूज करने की सुविधा देती है जिसके लिए हमे एक पैसा नही देना होता है। उन्ही मे से एक है dot.tk  वेबसाईट।  Dot.tk वेबसाईट पर रजिस्टर कर के आप फ्री का डोमेन जैसे .tk, .ml इत्यादि यूज कर सकते हैं। 
 
आपको dot.tk डोमेन कुछ अजीब सा लगेगा लेकिन आप ये सोचिए कि किसी को जब आप अपने ब्लॉग/वेबसाईट का लिंक देंगे तो उसमे blogspot.in की जगह .tk लिखा होगा तो सामने वाला ये सोचेगा कि ये भी .com जैसा ही कोई डोमेन है और दिया गया लिंक किसी वेबसाईट का है।

आइये जानते है कि अपना 

कस्टम डोमेन कैसे सेट करे
(How To Set Custom Domain)
 
सबसे पहले अपने ब्राउजर मे www.dot.tk टाइप कर के ये साईट खोलिए। अब आपके सामने जो पेज आएगा उसमे एक सर्च बॉक्स होगा जिसके सामने Check availability लिखा होगा। आपको जो डोमेन चेक करना है वो उस बॉक्स मे टाईप कर दीजिए और चेक पर क्लिक कर दीजिए।

Free Custom Domain For Blogger
चेक पर क्लिक करते ही आपके सामने कुछ रिजल्ट आएगा जिसमे सबसे पहले .tk, उसके बाद .ml इत्यादि डोमेन लिखे नजर आ रहे होंगे और उनके ठीक सामने उनका प्राइस USD 0.00 लिखा हुआ होगा यानि की वो बिल्कुल फ्री है।

Free Custom Domain For Blogger
 
अब आपको Get It Now पर क्लिक करना है। क्लिक करते ही वो बटन ग्रीन हो जाएगा और वहाँ Selected लिखा नजर आने लगेगा।

Free Custom Domain For Blogger
 
अब उसके ठीक उपर देखिये, वहाँ Checkout लिखा होगा। Checkout पर क्लिक करने पर आप अगले पेज पर पहुँच जाइएगा।
 
अगले पेज पर आपको सबसे पहले Period पर क्लिक कर 12 Month सेलेक्ट करना है, उसके बाद  Use DNS पर क्लिक करिये।

 
Use DNS पर क्लिक करते ही आपके सामने Use Freenom DNS Service लिखा आएगा और नीचे Host Name और उसके सामने IP Address लिखा आएगा।
 
अब आप उसे वैसे ही छोड़कर दूसरे टैब मे Blogger में login करिये और Setting >> Basic >> Publishing मे जाकर +Set up a third-party URL for your Blog पर क्लिक करिये।

Free Custom Domain For Blogger
 
अब Blog Address मे http:// के बाद अपने कस्टम डोमेन (जो आपने dot.tk पर रजिस्टर किया है) टाईप कर दीजिए। कस्टम डोमेन इस फॉर्मेट www.abc.tk में टाईप करना है। उसके बाद सेव बटन पर क्लिक कर दीजिए।

Free Custom Domain For Blogger
 
सेव करते ही आपके सामने इमेज मे दिखाया गया एरर आएगा। 

Free Custom Domain For Blogger
 
अब आपको Setting Instructions पर क्लिक करना है। उस पर क्लिक करते ही आपके सामने गूगल का Use a Custom Domain पेज खुल जाएगा।

Free Custom Domain For Blogger
उस पेज पर जब आप नीचे की तरफ जाएंगे, वहाँ आपको Set Up Your Domain With Your Blog लिखा दिखेगा, आपको उस पर क्लिक करना है। क्लिक करते ही वो expand हो जाएगा और उसमे नीचे 4 IP Address लिखे नजर आएंगे।
 
अब आप पहला IP Address कॉपी कर के Dot.tk पर वेबसाईट पर जाइए और वहाँ पहले IP Address बॉक्स मे पेस्ट कर दीजिए। फिर दूसरे IP address को कॉपी कर के उसे भी dot.tk पेज पर IP बॉक्स मे पेस्ट कर दीजिए और Continue पर क्लिक कर दीजिए।

Free Custom Domain For Blogger
अगले पेज पर आपको अपना इमेल आईडी डाल कर Verify My Email Address पर क्लिक करना है। अब दूसरे टैब मे अपना जीमेल आइडी खोलिए और इनबॉक्स मे आए हुए वेरिफिकेशन मेल पर क्लिक करिये। मेल के अन्दर एक लिंक होगा उसे क्लिक करिये, आपकी आइडी वेरिफाई हो जाएगी।

Free Custom Domain For Blogger
वेरिफाई होते ही आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा जिसमे आपको नीचे दिये गए डिटेल भरने है। आपको समझाने के लिए  फॉर्म मे मैने अपने डिटेल भरा है लेकिन जब आप अपना रजिस्ट्रेशन करियेगा तो अपनी डिटेल भरियेगा।

Free Custom Domain For Blogger
 
उसके बाद Complete order पर क्लिक करते ही आपको Order Confirmation का मैसेज आएगा और आपका ऑर्डर नम्बर भी दिखेगा। अब आपको Click Here to Go to your client area पर क्लिक करना है।
 
वहाँ आपको अपने यूजर आइडी से लॉगिन करना है। लॉगिन के बाद Services >> My Domain मे जाना है।

Free Custom Domain For Blogger
 
वहाँ आपको आपका डोमेन दिखेगा और उसके सामने आपका रजिस्ट्रेशन नम्बर और एक्सपायरी डेट भी दिखेगा। वहाँ आपको Manage Domain पर क्लिक करना है।

Free Custom Domain For Blogger
 
Manage Domain >> Manage Freenom DNS पर क्लिक करना है।
 
आपके सामने नीचे दिये गए फॉर्म जैसा पेज खुल जाएगा। वहाँ +More Records पर क्लिक करिये। ऐसा करते ही एक और रिकॉर्डस बॉक्स खुल जाएगा।
 
उसे वैसा ही छोड़कर आप ब्लॉगर मे जाइए और वहाँ Setting >> Basic मे www & ghs.google.com लिखा होगा, वो बिल्कुल वैसा ही dot.tk साईट पर लाकर पेस्ट कर देना है जैसा कि नीचे इमेज मे दिखाया गया है।

 
Free Custom Domain For Blogger
 
सब करने के बाद save changes पर क्लिक कर दीजिए। अब आपका DNS सेव हो चुका है।
 
अब Blogger मे जाकर वहाँ भी save कर दीजिए। 

Save करने के बाद वहाँ आपके ब्लॉग के आगे Redirect और डोमेन के आगे Edit लिखा आएगा। आपको Edit पर क्लिक करना है। वहाँ आप देखेंगे कि आपके डोमेन के ठीक नीचे एक बॉक्स बना हुआ है जिसके आगे Redirect…. लिखा हुआ है, आपको उस बॉक्स को टिक (✔) करके Save कर देना है।

5 मिनट बाद दूसरे टैब मे अपना ब्लॉग ओपेन कर के देखिए, आपका ब्लॉग नए लिंक पर redirect होने लगेगा। 

आपको आज का पोस्ट कैसा लगा? पोस्ट से संबंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो मुझे कमेंट कर के या ई-मेल के जरिये जरुर बताइयेगा। मुझे ई-मेल करने के लिए पेज पर विजिट करें। धन्यवाद।

Isey Bhi Padhein

loading…


0

Adsense Se 1000 Visits Par Kitni Earning Hoti Hai

Adsense Se 1000 Visits Par Kitni Earning Hoti Hai

Hello Dosto, Aaj Blogging ek Carreer ke rup me teji se ubhar kar samne aaya hai. Pahle Blogging ka matlab hota tha shaukiya taur par blog likhna lekin ab blog ke jariye hum paise bhi kama sakte hain. Yahi karan hai ki jyada se jyada log Job chhod kar blogging ko apna carreer bana rahe hai. 

 
Blogging Start karte waqt sabhi yahi sochte hain ki kaash unka Google Adsense approve ho jaaye jisse vo jyada se jyada kama sake.
 
Bahut logo ka Adsense Approve nahi hota hai to vo dukhi ho jate hai or jinka approve ho jata hai unhe aisa lagta hai jaise koi bahut bada khazana haath lag gaya hai.
 
Bahut khush hokar vo log Adsense ka Ad apne blog par lagate hai lekin unki khushi kuch hi dino me gayab ho jati hai jab achchi visits ke bavjud unhe Adsense se utni earning nahi hoti jitni ki vo ummid kiye rahte hain.
 

Tab un log ke man me yahi sawal uthata hai ki aakhir

Google per 1000 visits par kitne paise deta hai?

Adsense Se 1000 Visits Par Kitni Earning Hoti Hai

Image Source: Google

Dosto, Is sawal ka jawab janane ke liye sabse pahle hame ye janana hoga ki Google Ads se kaise earning hoti hai.
 
Generally, jab hum koi ads lagate hai to usse hame do tarah se earning hoti hai. Ek to CPM yani per thousand impression se, matlab 1000 log jab hamara ads dekhte hai to ussey bhi hame earning hoti hai.
 
Dusra tarika hai CPC yani per click se. Jab visitors hamare blog/site par aate hai or agar vo kisi ads par click karte hain to usse bhi hamari earnings hoti hai.
 
Adsense ke bhi Ads CPC ads hote hai yani jab un par click hota hai tabhi hame earning hoti hai otherwise nahi.
 
Isey Bhi Padhein Google Adsense Ke 15 Fayde
Isey samajhne ke liye hame thoda mathematic calculation karna padega.
 
CPC yani Cost Per Click – Jab koi visitors hamare blog par kisi ads par click karta hai to us 1 click par jitni earning hoti hai vo uska CPC kahlati hai.
 
Maan lijiye 1 click karne par hame $0.1 mila to ye us ad ka CPC kahlayega.
 
CTR yani Click Through Rate – CTR se hame pata chalta hai ki Blog par aane wale per 1000 visits me se kitne logo ne ads par click kiya.
 
Maan lijiye, blog par 1000 visits aaya or usme se 50 logo ne ads par click kiya to aapka CTR ho gaya 5% .
 
CPC kai baato par nirbhar karta hai jaise Visitor kis Country se hai, Ad kis type ka hai, Website ka Topic kya hai, Visitors kaun si Language bolta hai etc. or bhi kai karan hote hai jisse CPC kam ya adhik hota hai.

Isey Bhi Padhein: Blogspot ka Country Specific Redirect Kaise Band Kare

Aaiye is bare me thodi detail me baat karte hain.

#1. Website Ka Topic

Adsense Se 1000 Visits Par Kitni Earning Hoti Hai

Image Source: Google

Kisi bhi ads ki high CPC ke liye sabse important factor hota hai Website ka topic. Aapke site par jo ads aate hai unme se jyadatar aapke website ke content/topic se related hote hai.
 
Jaise mere blog par bhi aap dekh sakte hain, 1-2 ads aise honge jo is blog ke topic se milte julte honge.
 
Agar high CPC wala content hoga to usi se related Ads bhi show honge jis par click hone se hame achche paise milne ke pure chance hote hai.
 
Ab aap soch rahe honge ki kaise pata kare ki kaun topic high CPC wala hai. Niche mai kuch aise hi topic ki list de raha hu. (high to low)
 
  1. Software/App/Wallpaper Downloading Websites
  2. Insurance
  3. Health
  4. Make Money Online
  5. Technology
  6. SEO (Search Engine Optimization)
  7. Web Development
  8. Entertainment
  9. Beauty Tips
  10. Breaking News

#2. Country

Adsense Se 1000 Visits Par Kitni Earning Hoti Hai

Image Source: Google

Hamare site/blog par aane wala visitors kis country se belong karta hai, ye janna hamare liye bahut importance hai. Agar Visitors USA, UK jaise countries se hai to aapko CPC high milega lekin Asian countries jaise India, Bangladesh, Pakistan se ho to CPC kam milega.
 

#3. Ads Type

Hamare site/blog par jo Ads show hote hai vo 2 karano par nirbhar karte hain. Pahla hamare blog post me use kiye gaye Keywords se related Ads hote hai or Dusra jab koi visitors kisi dusri website par “jaha achche CPC wale ads show ho rahe honge”, waha se hamare site par aaya hoga to usey wahi ads hamare site par bhi dikhega.
 

#4. Language

High CPC ke bada karan Language bhi hai. Agar aap ke site par Hindi bolne wale log aate hai to aapko kam CPC milega lekin English, Spanish bolne wale log aate hai to aapko High CPC milega.
 
Duniya me sabse jyada Chineese, English aur Spanish bolne wale log hai isliye agar ye bhasa bolne wale log aapke site par aate hai to aapke Ads ka CPC me bahut fark padega.
 
Upar bataye gaye details ke aadhar par ab ek final calculation kar ke dekhte hai ki 

1000 visits par Adsense se kitni earnings ho sakti hai.

1) Maan lijiye aaj aapke site ke ads ki CPC $0.10 hai (Approximate, ye kam ya adhik bhi ho sakta hai) or CTR 5% hai yaani har 100 me se 5 log ads par click jarur kar rahe hain.
 
2) Ab hame 1000 visits par earning calculate karna hai.
 
100 visits par 5 click hote hai to
1000 visits par 5 X 10 = 50 Click honge (Approximate)
 
Total Earning = CPC X CTR
                      = $0.10 X 50 Click = $5

Isey Bhi Padhein: UC News Me Site Ko Kaise Submit Kare

Dosto, upar jo calculation kiya gaya hai vo puri tarah se approximate hai. CPC or CTR kam ya adhik bhi ho sakte hain. Lekin upar diye gaye calculation se aap itna to samajh gaye honge ki Adsense se hame kaise earnings hoti hai.
 
Adsense se achchi income ke liye jaruri hai ki aapke site par quality content dala jaye or USA, UK jaisi countries se jyada visits ho. 
 
Aapko jankar hairani hogi ki achche content hone or High CPC wale countries se visits aane par ek click par $20 tak mil sakta hai. Isliye mai ek baar fir kahunga ki jo bhi post daalein vo quality post ho or puri kosis karein ki pure world ke log aapke site par visit kar paayein.
 
Aapko aaj ka post kaisa laga, is baare me comment kar ke jarur bataiyega. Koi sawal ya sujhav ho to behichak mujhe comment ya mail kar sakte hain.
 
Mail karne ke liye Contact Us form par visit karein or hamesa aise hi jankari bhara post padhne ke liye hame subscribe karna mat bhuliyega. Thank You.
 

Isey Bhi Padhein

loading…